Browsing: indian festivals

इसमें मां सरस्वती की पूजा के साथ ही कलम दवात की पूजा भी करते हैं। रोमन कैलेंडर के अनुसार इस बार बसंत पंचमी का पर्व 14 फरवरी 2024 बुधवार के दिन है

जब ब्रज मंडल के लोगों ने गोवर्धन पर्वत की पूजा की तो इंद्र ने भारी बारिश करवा दी जिसकी वजह से लोग परेशान होने लगे तब भगवान श्री कृष्ण ने लोगों की रक्षा हेतु गोवर्धन पर्वत को अपनी उंगली पर उठा लिया था जिसके नीचे आकर सभी लोगों ने अपनी जान बचाई और भगवान श्री कृष्ण ने उन्हें शरण दी। गोवर्धन पर्वत को अन्नकूट  पर्वत के नाम से भी जाना जाता है और इस त्यौहार को अन्नकूट के नाम से भी जाना जाता है ।

दिवाली पर मां लक्ष्मी और श्री गणेश की पूजा का विशेष महत्व है । माना जाता है कि मां लक्ष्मी देवी की पूजा से धन की प्राप्ति होती है और गणेश जी की पूजा से शुभत्व की प्राप्ति होती है तथा धन खर्च करने की बुद्धि मिलती है। श्री गणेश भगवान एवं मां लक्ष्मी शुभता का प्रतीक है।

हिंदू पंचांग के अनुसार रक्षाबंधन का पर्व हर साल श्रावण माह के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि को मनाया जाता…

संपूर्ण भारत में होली का त्योहार धूमधाम से मनाया जाता है। फाल्गुन माह की पूर्णिमा के दिन होलिका दहन किया जाता है। इस बार वर्ष 2022 में होलिका दहन 17 मार्च के दिन होगा। वहीं अगले दिन रंग खेला जाएगा।