Browsing: Ramsar site

2 फरवरी 1971 को विश्व के विभिन्न देशों ने ईरान के रामसर में दुनिया के वेटलैंड के संरक्षण हेतु एक संधि पर हस्ताक्षर किए गए  थे इसलिए इस दिन विश्व रामसर दिवस के रूप में मनाया जाता है।  भारत के द्वारा इस संधि पर 1 फरवरी 1982 में हस्ताक्षर किए गए।

रामसर संधि के तहत पांच और नए रामसर स्थलों की घोषणा की गई। अब भारत देश में संरक्षित आर्द्रभूमियों / रामसर स्थलों की कुल संख्या बढ़कर 54 हो गई है। तमिलनाडु के करिकीली पक्षी अभयारण्य, पल्लीकरनई मार्श रिजर्व फॉरेस्ट और पिचवरम मैंग्रोव, मध्य प्रदेश के साख्य सागर तथा मिजोरम की पाला आर्द्रभूमि को रामसर स्थल घोषित किया गया है।

नमीय दलदली भूमि वाले ऐसे क्षेत्र जहां भरपूर नमी पाई जाती है और वे दलदली भूमि होती हैं ऐसे स्थानों को वेटलैंड (आर्द्रभूमि क्षेत्र) भी कहा जाता है। वेटलैंड क्षेत्र जल को प्रदूषण से मुक्त बनाती है तथा यह क्षेत्र वर्ष भर आंशिक या पूर्ण रूप से जल से भरा रहता है।

हाल ही में कन्वेंशन सेंटर आई रिपोर्ट के अनुसार भारत में रामसर कन्वेंशन के तहत अंतरराष्ट्रीय महत्व के 5 नए रामसर सदस्यों को नामित किया है जिन्हें वेटलैंड कन्वेंशन के रूप में भी जाना जाता है । भारत में नए रामसर वेटलैंड स्थलों में शामिल स्थान अलग अलग राज्यों से